डेबिट कार्ड क्या होता है? डेबिट कार्ड के फायदे और नुक्सान क्या होते है?

हेलो दोस्तों यदि आप डेबिट कार्ड के बारे में जानना चाहते है तो कहीं मत जाइये आप को यहाँ पर सारी मिलेगी। कि डेबिट कार्ड क्या होता है? डेबिट कार्ड कैसे बनवाये? तथा डेबिट कार्ड कितने प्रकार के होते है? इसके साथ डेबिट कार्ड के फायदे और नुकसान क्या होते है?

डेबिट कार्ड क्या होता है?

डेबिट कार्ड एक प्लास्टिक कार्ड होता है तथा इसका उपयोग हम कुछ भी खरीदारी करते समय पैसे का भुगतान करने के लिए करते है।  डेबिट कार्ड को अन्य नामो से भी जाना जाता है, जैसे एटीएम कार्ड, प्लास्टिक कार्ड तथा बैंक कार्ड आदि। लोग अपनी सुविधा अनुसार इसमें से कोई भी नाम लेते है।

डेबिट कार्ड का इस्तेमाल हम डिजिटल पेमेंट करने के लिए करते है तथा हम इसका ऑफलाइन पेमेंट के लिए भी उपयोग करते है, डेबिट कार्ड के द्वारा हम कैश निकाल सकते है तथा ऑफलाइन पेमेंट कर सकते है डेबिट कार्ड को हम दोनों रूप से उपयोग में ला सकते है।

एटीएम कार्ड की मदद से आप अपने सेविंग्स अकाउंट को आसानी से electronically access कर सकते है via ATMs

डेबिट कार्ड के द्वारा हम कैश जमा तथा निकाल सकते है। अपने बैंक अकाउंट में इस कार्ड का उपयोग आप मोबाइल बैंकिंग तथा इंटरनेट बैंकिंग में भी कर सकते है।

आसान शब्दों में कहे तो डेबिट कार्ड एक प्लास्टिक कार्ड होता है जिसका उपयोग हम कैश निकालने तथा जमा करने और पेमेंट का भुगतान करने के लिए करते है।

क्रेडिट कार्ड क्या होता है? क्रेडिट कार्ड कितने प्रकार के होते हैं?

डेबिट कार्ड कैसे बनवाये?

अब दोस्तों ये पढ़ने के बाद सवाल मन में आता है कि डेबिट कार्ड कैसे बनवाये? दोस्तों जब आप अपना किसी भी बैंक में अकाउंट खुलवाते है तो आपको डेबिट कार्ड का फॉर्म भी साथ में भरना होता है तथा आपको यह कार्ड बैंक द्वारा दिया जाता है फॉर्म भरने के बाद और बैंक  कि संतुष्टि होने के बाद बैंक द्वारा ये कार्ड दिया जाता है।

यह कार्ड आपके अकाउंट से लिंक होता है आप कोई भी ट्रांजेक्शन इस कार्ड द्वारा करते है वह आपके बैंक अकाउंट में रिकॉर्ड हो जाता है कि आपने कितनी और कहा कहा लेनदेन कि है।

आप एटीएम कार्ड या डेबिट कार्ड के लिए ऑनलाइन भी अप्लाई कर सकते है आप का जिस बैंक में अकाउंट है आप उसकी ऑफिशियल  वेबसाइट पर जाईये और वहां लॉगिन कीजिये डैशबोर्ड पर जाईये वही आपको e- services पर मिलेगी और आप अपने कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते है जांच पूरी होने के बाद। बैंक आपका कार्ड आपके घर पर पंहुचा देगा।

डेबिट कार्ड अप्लाई करने का सभी बैंकों का प्रोसेस अलग अलग होता है।

डेबिट कार्ड कितने प्रकार के होते है?

डेबिट कार्ड के प्रकार कि बात कि जाये तो भारत में अलग अलग तरह के डेबिट कार्ड होते है। वही उन्हें तीन बड़े भागो में बांटा गया है। टेक्नोलॉजी के आधार पर, उपयोग के आधार पर तथा पेमेंट के आधार पर

टेक्नोलॉजी के आधार पर:-

Contactless Debit Card

इन डेबिट कार्डो में जिस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल होता है उसे Radio Frequency Identification (RFID) या Near Field  Communication (NFC) कहा जाता है। इसका इस्तेमाल secure transactions के लिए किया जाता है। इस कार्ड के द्वारा ट्रांजेक्शन एक tab में किया जाता है।

Chip & Pin Debit Card

इस डेबिट कार्ड में एक चिप होती है जो data को store करती है और प्रबंध करता है एक encrypted format में।  इसमें हर ट्रांजेक्शन को पूरा करने के लिए एक पिन कि जरुरत होती है।

Magnetic Stripe Debit Card

इस कार्ड को स्वाइप कार्ड भी खा जाता है इसे आसानी से एक मैग्नेटिक रीडिंग हेड के द्वारा स्वाइप किया जाता है किसी भी ट्रांजेक्शन करने के लिए।

उपयोग के आधार पर:-

Prepaid Debit Card

ये कार्ड दूसरे कार्डो कि तरह आपके अकाउंट से लिंक नहीं होते है। इस कार्ड के इस्तेमाल के लिए इसमें आपको advanced में पैसे लोड करवाने होते है तथा बाद में उपयोग में लाया जाता है। Forex डेबिट कार्ड एक प्रीपेड कार्ड है जिसके द्वारा आप विदेश में पैसे खर्च कर सकते है।

International Debit Card

यह एक ऐसा कार्ड है जिसका उपयोग आप विदेशो में पैसा निकालने के लिए कर सकते है। वो भी इंटरनेशनल बैंक एटीएम से इसमें एक चार्ज जोड़ा जाता है जो 3 से 5 प्रतिशत तक हो सकता है ट्रांजेक्शन अमाउंट के साथ।

Virtual Debit Card

ये भौतिक रूप से कार्ड नहीं होते है इन्हे इंटरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग से इस्तेमाल किया जाता है ऑनलाइन पेमेंट के लिए।

Business Debit Card

ये वे कार्ड होते है जो केवल कॉर्पोरेट लोगो को ही दिए जाते है केवल व्यवसाय के काम के लिए।

पेमेंट प्लेटफार्म के आधार पर:-

Visa Debit Card

ये कार्ड visa  द्वारा issue किया जाता है, Visa एक पेमेंट प्लेटफार्म है जो कि उत्तरी अमेरिका पर आधारित है, ये कार्ड ऑफर करता है सभी ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के लिए।

Visa Electron Debit Card

ये Visa कि तरह ही होता है बस इसमें  उपयोग के लिए आपके अकाउंट में बैलेंस होना जरुरी है नहीं तो आप पेमेंट नहीं कर पाएंगे क्योंकि इसमें कोई ओवरड्राफ्ट लिमिट नहीं होती है।

Maestro Debit Card

इसे पूरी दुनिया में मास्टर कार्ड का ट्रेडमार्क के तोर पर जाना जाता है, इसमें आपको पिन कि जरुरत होती है ट्रांजेक्शन करने के लिए।

Master Debit Card

ये एक ऐसा कार्ड होता है जो कि आपको आपके फण्ड तक एक सिक्योर एक्सेस प्रदान करता है। ये दो प्रकार के होते है सिरस डेबिट कार्ड और मेस्ट्रो डेबिट कार्ड।

Rupay Debit Card

एक ऐसा डेबिट कार्ड जिसे लांच किया गया है (NPCI ) के अंतर्गत। ये ऑनलाइन पेमेंट में सपोर्ट करता है।

इसके अलावा धातु के नाम के भी डेबिट कार्ड होते है जैसे सिल्वर डेबिट कार्ड, गोल्ड डेबिट कार्ड, डायमंड डेबिट कार्ड, प्लैटिनम डेबिट कार्ड और टाइटेनियम डेबिट कार्ड आदि इनका इन धातु से कोई मतलब नहीं होता है इन्हे इनके लाभ के अनुसार ऐसा नाम दिया गया है।

डेबिट कार्ड के लाभ क्या है ?

समय की बचत – डेबिट कार्ड द्वारा आप बैंक की लम्बी लाइन से बच जाते है तथा आप कार्ड द्वारा पेमेंट कर सकते है और आपको कैश की आवश्यकता नहीं होती है।

आपातकाल में उपयोगी – कार्ड द्वारा आप कही भी कैश निकाल सकते हो तथा किसी भी समय यदि आपको रात में अचानक कैश की जरुरत पड़ती है तो आप एटीएम से कैश निकाल कर उपयोग में ला सकते हो रात में कोई बैंक नहीं खुलता है। इसके लिए आपको अगले दिन का इंतज़ार करने की जरूरत नहीं है।

सुरक्षित – डेबिट कार्ड एक सुरक्षित तरीका है पेमेंट करने का जिसमे कोई कैश चोरी का डर नहीं होता है आपको जब जरुरत हो आप तब कैश निकाले और जरूरत अनुसार ही निकाले और उपयोग में लाये।

इंटरनेट बैंकिंग – डेबिट कार्ड के साथ आपको इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा भी प्रदान की जाती है। तथा आप अपने पैसे ट्रांसफर भी कर सकते है इंटरनेट बैंकिंग के द्वारा आपको बैंक जाने की जरुरत नहीं होती है।

कैश निकालना और डालना – यदि आपके पास डेबिट कार्ड है तो आपको बैंक जाने की जरूरत नहीं होती है आप कार्ड द्वारा कैश निकाल व डाल सकते हो।

खरीदारी / भुगतान  – आप  डेबिट कार्ड द्वारा ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनों तरीको से खरीदारी कर सकते है आप अपने कार्ड द्वारा ऑनलाइन बिल का भुगतान तथा अपना मोबाइल, D2H आदि सभी का ऑनलाइन कार्ड द्वारा भुगतान कर भी सकते है।

डेबिट कार्ड के नुकसान क्या है?

लिमिट – कार्ड द्वारा पैसे निकालने की एक दिन की एक सीमा तय होती है, वह सीमा कार्ड के आधार पर तय होती है की आप कितना निकाल सकते हो मिनिमम लिमिट 100 रूपए होती है। तथा आपको इससे ज्यादा पैसे निकालने के लिए बैंक जाना पड़ता है।

शुल्क का भुगतान – यदि आप अपने डेबिट कार्ड से अपने अकाउंट में पड़ी राशि से ज्यादा खर्च करते है, तो इसके लिए आपको बैंक को एक चार्ज देना होता है।

दुरुपयोग – यदि आपका कार्ड कही खो जाता है या चोरी हो जाता है तो इसका दुरुपयोग भी हो सकता है, वैसे तो आप इसे तुरंत कार्ड के खोने पर अपने रजिस्टर्ड नंबर से इसे ब्लॉक करवा सकते है।

फ्रॉड – आप अपने कार्ड का ऑनलाइन उपयोग करते है तथा इससे ऑनलाइन फ्रॉड होने की सम्भावना बनी रहती है, आप कुछ सावधानियों को अपना कर इस फ्रॉड से बच सकते है।

कोई अंतर्राष्ट्रीय भुगतान नहीं – आपके डेबिट कार्ड में इंटरनेशनल पेमेंट इनेबल नहीं होता है इससे आप इंटरनेशनल पेमेंट नहीं कर सकते है। इसके लिए आपको बैंक से दूसरा कार्ड लेना होता है।

यह भी पढ़े:

CVV Full Form क्या होती है? CVV क्या है?

Authored By Prabha Sharma
Hello, My name is Prabha Sharma and I am the author of BankMadad.com. I graduated from Delhi University and I love writing about banking and finance.
हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े

Leave a Comment

हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े

बैंकिंग और वित्त से जुडी ताज़ा जानकारी अपने मोबाइल में पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े