क्रॉस्ड चेक क्या होता है? क्रॉस्ड चेक कैसे बनता है?

क्या आप भी जानना चाहते है, क्रॉस्ड चेक क्या होता है? तथा यह कैसे बनता है? और इसको क्रॉस कैसे किया जाता है, चेक को क्रॉस करने के तरीके क्या क्या होते है? तो दोस्तों आपको क्रॉस्ड चेक से संबंधित सारी जानकारी हमारे ब्लॉग पर मिलेगी। क्रॉस्ड चेक से संबंधित अपने सवालों का जवाब जानने के लिए हमारे आर्टिकल को जरूर पढ़े।

चेक क्या होता है? चेक कितने प्रकार के होते है?

क्रॉस्ड चेक क्या होता है?

क्रॉस्ड चेक एक चेक होता है जिस पर चेक के बायीं तरफ ऊपर कोने में दो समानांतर लाइनों से क्रॉस किया जाता है। यह चेक एक इंस्ट्रक्शन होता है payee को की इस चेक को बैंक काउंटर से कैश नहीं करवाया जा सकता है। क्रॉस्ड चेक का अमाउंट अकाउंट से अकाउंट में ट्रांसफर होता है। इसमें कोई कैश नहीं दिया जाता है।

आसान शब्दों में कहें तो क्रॉस चेक एक ऐसा चेक है जिसके द्वारा payee को कैश नहीं दिया जाता है, तथा इसके द्वारा पैसा सीधा payee के  अकाउंट में जाता है। और इस चेक पर चेक के आगे की बांयी तरफ दो समानांतर लाइनों के द्वारा क्रॉस किया जाता है।

क्रॉस चेक कैसे काम करता है?

जब कभी आपको किसी के द्वारा क्रॉस चेक प्राप्त होता है या आप किसी को क्रॉस चेक देते है, तो जो व्यक्ति चेक देता है उसके द्वारा चेक के आगे के हिस्से की बायीं तरफ दो लाइनों द्वारा क्रॉस कर दिया जाता है। इन लाइनों के बीच में या तो कुछ लिखा होता है या कुछ नहीं लिखा हुआ भी हो सकता है। (जैसे A /c payee, not negotiable) आदि।

जब चेक प्राप्त करने वाला व्यक्ति चेक को रिडीम करने के लिए बैंक जाता है, तो चेक पर क्रॉस देख कर चेक की अमाउंट को कैश में नहीं दिया जाता है। यह चेक अमाउंट सीधा प्राप्तकर्ता के अकाउंट में स्थानांतरित होता है। इसका मतलब कैश नहीं दिया जाता है पैसा सीधा पेयी के अकाउंट में जाता है।

क्रॉस्ड चेक कैसे बनता है?

क्रॉस्ड चेक बनाने के लिए आपको एक चेक लेना होगा और उस पर आपको पूछी गयी जानकारी अनुसार चेक में जानकारी भरनी पड़ेगी, चेक में आपको पेयी का नाम और अमाउंट शब्दों में और अंको में दोनों रूप में भरना होगा तथा अपने हस्ताक्षर करने होंगे, और चेक की बांयी तरफ ऊपर दो समान्तर लाइनों से क्रॉस करना होता है इस क्रॉस के अंदर आप या तो कुछ लिखते है या बिना लिखे भी बना सकते है और आपका क्रॉस्ड चेक तैयार है।

चेक को क्रॉस करने के तरीके क्या होते है?

चेक को क्रॉस करने के निम्नलिखित तरीके होते है:-

General Crossing – क्रॉस चेक सामान्य रूप से एक चेक होता है जिस पर कोने में बायीं तरफ दो समान्तर लाइन डाली जाती है drawer द्वारा और इन दो लाइनों के बीच में “And company ” और” & Co ” (या कोई भी वर्ड का छोटा रूप लिखा हो सकता है या कोई वर्ड नहीं भी लिखा हो सकता है।) तथा पेयी को चेक दिया जाता है।

इस चेक को payee द्वारा कैश नहीं करवाया जा सकता है। सामान्य रूप में क्रॉस चेक बैंक अकाउंट में paid किये जाते है जिससे लाभार्थी को trace किया जा सकता है।

Account Payee Crossing – चेक में क्रॉस करने के बाद इसकी सुरक्षा बढ़ जाती है, जिससे की बैंक काउंटर से कैश नहीं लिया जा सकता है, चेक को आपके अकाउंट में, उसी अकाउंट में जिसका नाम payee में लिखा हुआ है रिडीम किया जा सकता है और Account payee क्रासिंग में दो समान्तर लाइनों के बीच A /c payee लिखा जाता है यह इस ख़ास व्यक्ति के अकाउंट में ही भुनवाया जाता है। (जिसको चेक दिया गया है)

Not Negotiable Crossing – यदि जब कभी आपको किसी चेक पर Not negotiable लिखा हुआ मिलता है तो आप चेक की अच्छे से जाँच पड़ताल करने के बाद ही बैंक में जमा करवाए क्योंकि इसका मतलब यह होता है की यदि किसी ने फ्रॉड किया है तो इस फ्रॉड में आपको कुछ नहीं पता आप निर्दोष है और आपने चेक जमा करवा दिया।

आसान शब्दों में कहें तो नॉट नेगोशिएबल का मतलब होता है की आप भी जवाब देहि होते हो चेक के लिए इसलिए जब पहला व्यक्ति केश करेगा तो इससे आपका भी नाम ख़राब होगा। जब कभी चेक पर नॉट नेगोशिएबल लिखा हो तो चेक की अच्छे से जांच करें फिर बैंक में दें।

यदि किसी चेक पर नॉट नेगोशिएबल लिखा है तो इसका मतलब यह है कि यह शब्द नेगोशिएबल की मुख्य विशेषता को हटा देता है। (नेगोशिएबल की मुख्य विशेषता यह है की यदि आपको कोई भी चेक दे आप के साथ जो व्यक्ति फ्रॉड करता है वह जवाबदेही होगा।)

Special Crossing – स्पेशल क्रॉसिंग में ड्रावर द्वारा चेक पर क्रॉसिंग लाइन के अंदर किसी ख़ास बैंक का नाम लिख दिया जाता है जिससे यह चेक केवल उसी बैंक के अकाउंट में ही भुनवाया जा सकता है। और किसी दूसरे बैंक के अकाउंट में आप इस चेक को नहीं भुनवा सकते है।

यानी कि इस चेक में एक खास बैंक का नाम चेक देने वाले व्यक्ति द्वारा डाल दिया जाता है। यदि आपको इस बैंक में अकाउंट नहीं है  जिसका नाम चेक पर लिखा होता है,तो आप चेक देने वाले व्यक्ति से बात करे वह आपको दूसरा चेक देगा।

यह भी पढ़े

कैंसिल चेक क्या होता है? कैंसिल चेक कैसे बनाया जाता है?

ओपन चेक क्या होता है? ओपन चेक कैसे बनता है?

आर्डर चेक क्या होता है? आर्डर चेक कैसे बनता है?

चेक बाउंस के नए नियम क्या होते है?

सेल्फ चेक क्या होता है? सेल्फ चेक कैसे भरे?

बेयरर चेक क्या होता है? बेयरर चेक कैसे भरे?

पोस्ट डेटेड चेक क्या होता है? पोस्ट डेटेड चेक कैसे बनता है?

साधारण मूल्य उच्च, मूल्य और उपहार चेक क्या होते है?

Authored By Prabha Sharma
Hello, My name is Prabha Sharma and I am the author of BankMadad.com. I graduated from Delhi University and I love writing about banking and finance.
हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े

Leave a Comment

हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े

बैंकिंग और वित्त से जुडी ताज़ा जानकारी अपने मोबाइल में पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े